Sanskrit Subhashitas 144

Sanskrit
विद्या मित्रं प्रवासेषु भार्या मित्रं गॄहेषु च।
व्याधितस्यौषधं मित्रं धर्मो मित्रं मॄतस्य च॥

Hindi
प्रवास (घर से दूर निवास) में विद्या मित्र होती है, घर में पत्नी मित्र होती है, रोग में औषधि मित्र होती है और मृतक का मित्र धर्म होता है ॥

English
Knowledge is friend in the journey, wife is the friend at home, drug is friend in illness and Dharma (righteousness) is the friend after death.

You May Also Like